एक मुलाकात डॉ. महेश परिमल जी के साथ

किसी ने क्या खूब कहा है "जिंदगी एक किताब के समान है और जो लोग घर से बाहर नहीं जाते वो इस किताब का सिर्फ एक ही पेज पढ़ पाते हैं."

Friends, कहते हैं हमारी life एक किताब की तरह है जिस से हमें बहुत कुछ सीखने को मिलता है. आपने अपनी life में ऐसी कितनी ही किताबें पढ़ी होंगी जिन्होंने आपके जीवन को एक नई दिशा, नई उर्जा दी होगी. कल्पना कीजिये कि जो लोग इन किताबों को लिखते हैं उनसे face-to-face मिलना या उनके साथ मुलाक़ात करना कितना आनंददायी और एक नया अनुभव देने वाला होगा?

इन्टरनेट या किताबों पर जो ज्ञान मिलता है उस ज्ञान के अलावा वास्तविक जिंदगी के ज्ञान का अनुभव कुछ और ही है.


जब हम महान और उर्जावान व्यक्तियों से मिलते हैं तो हमें उनके सत्संग से कितना कुछ सीखने को मिलता है.

इन्हीं विचारों को ध्यान में रखते हुए मुझे भी प्रेरणा हुई कि जिन लोगों को हम अखबार, पुस्तकों या इन्टरनेट पर वर्षों से पढ़ते आ रहे हैं, जिन लोगों के लेखन से हम प्रभावित हुए हैं या जिन लोगों ने हमें real life में motivate किया है, जिनसे हमें हमेशा motivation मिला है क्यों न इन लोगों से face-to-face मिलने का कार्यक्रम बनाया जाये?

मेरे मन में यह जिज्ञासा सदा ही रही है कि हजारों-लाखों लोगों को प्रेरणा देने वाले महान लेखकों और motivators persons में आखिर क्या ख़ास होता है. आखिर इन लोगों में ऐसी क्या विशेषता होती है जो इन्हें दूसरे लोगों से अलग बनाती है?
एक मुलाकात डॉ महेश परिमल के साथ
डॉ. महेश परिमल
Friends, इसी प्रेरणा और जिज्ञासा ने मुझे हिंदी के जाने-माने पत्रकार और लेखक डॉ. महेश परिमल जी से मिलने के लिए प्रेरित किया और जहाँ चाह वहां राह है को चरितार्थ करते हुए मुझे पिछले रविवार को डॉ. महेश परिमल जी से मिलने का अवसर मिल गया.

डॉ. महेश परिमल जी से मुलाकात उनके इन्द्रपुरी, भोपाल स्थित उनके आवास पर हुई. डॉ, परिमल जी का व्यवहार बहुत ही सरल और मुग्ध कर देने वाला था. डॉ. महेश परिमल जी सिर्फ एक अच्छे लेखक ही नहीं हैं बल्कि एक अच्छे और खुश मिजाज इंसान भी हैं. डॉ. महेश परिमल जी के अनेक लेख देश के ख्यातिप्राप्त पात्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए हैं. आधे घंटे की ही सही मगर इस महत्वपूर्ण मुलाक़ात ने मुझे बहुत ही अधिक शांति प्रदान की.

जिंदगी में सफलता प्राप्त करने वाले और संघर्ष करने वाले दोनों लोग महान होते हैं और दोनों से हमें कुछ न कुछ सीखने को मिलता है.

डॉ. महेश परिमल जी ने अपने जीवन और अपनी साहित्यिक गतिविधियों के बारे में जो कुछ बताया उसने मुझे बहुत अधिक प्रभावित किया. उनकी आने वाली पुस्तकों के बारे में भी उन्होंने बताया.

डॉ. महेश परिमल जी से मेरी ये मुलाकात मेरी महत्वाकांक्षी योजना "Face to face meeting with motivational people" और "Meet our internet friends" का पहला सोपान थी.

Friends, हो सकता है आने वाले दिनों में मैं इसी प्रकार अन्य दूसरे महान लेखकों, प्रतिष्ठित पत्रकारों, महान व्यक्तियों, motivational speakers, successful persons से मिल सकूँ और इस साइट पर उनके बारे में लिख सकूँ.
-------------------
धन्यवाद.
अनिल साहू
---------------------
Read Other Posts in Hindi
www.anilsahu.blogspot.in
-------------------------------

लेबल: ,