Believe in Yourself; You Are The Unique One

http://anilsahu.blogspot.in/2015/01/believe-in-yourself-motivational-article-in-hindi.html
गोपाल दो महीने से बहुत उलझन में था. उसके सभी दोस्त कारोबार और नौकरी में आगे निकल गए थे. गोपाल उन सब से बहुत पीछे रह गया था और  कई दिनों तक जब उसने इस पर गहराई से सोचा तो वह हीन भावना से ग्रसित हो गया. उसे अपने आप पर पछितावा और ग्लानि सी होने लगी. इसी सिलसिले में वह एक महात्मा जी से मिला. महात्मा जी ने उसकी सारी बातों को गहराई से सुना और अपना निष्कर्ष दिया.

महात्मा जी की बातों को सुनकर गोपाल का मन बहुत हल्का हो गया और उसे ऐसा लगा जैसे उसके मन का सारा बोझ ख़त्म हो गया हो.

दरअसल गोपाल एक होनहार और लायक लड़का था. उसके संगी साथियों ने जैसे तैसे अपने सिद्धांतों से समझौता करके नए रास्ते अपना लिए थे और आज वो सब ज़माने की दौड़ में आगे लग रहे थे. लेकिन गोपाल उन सब से अलग था और उसे कुछ अलग ही करना था. बस थोड़ी सी कुंठा ने उसके मन को ग्लानि से भर दिया था.

Friends, क्या आपने गौर किया कि बहुत अधिक आत्मविश्वासी होने के बाद भी कई लोगों का आत्मविश्वास कभी-कभी कमजोर पड़ने लगता है. बहुत अधिक समझदार लोग भी कुंठित होने लगते हैं. आखिर ऐसा क्यों होता है?

शायद ऐसा होने के कारणों में एक कारण यह भी है कि हमारा अपने आप पर से, अपनी शक्तियों पर से और अपने आप के 'आप' होने पर से भरोसा उठने लगता है.

"Believe in yourself and be proud who are you." "You are the unique person in this world."

http://anilsahu.blogspot.in/2015/01/believe-in-yourself-motivational-article-in-hindi.htmlगोपाल को महात्मा जी ने क्या कहा था. गोपाल को महात्मा जी ने यही कहा था कि तुम्हें अपने आप पर भरोसा रखना चाहिए. तुम्हारी अपनी अलग योग्यता और विशिष्टता है. जब तुम भी दूसरों की देखा देखी वही करने लगोगे तो तुम में और उन में क्या अंतर रह जाएगा? तुम्हारे पास अनेकानेक अवसर हैं और वो तुम्हें अवश्य मिलेंगे. ये कुंठा तुम्हारे मन की निराशा और हीन भावना की उपज है. हीन विचारों को आश्रय मत दो. तुम अपने आप का, खुद का सम्मान खुद करो. अगर तुम अपना सम्मान खुद नहीं करोगे तो कोई दूसरा तुम्हारा सम्मान कैसे करेगा.

यह सच बात है कि हर आदमी अपने आप में विशिष्ट और अद्वितीय है. इंसान अपनी काबिलियत को जानते हुए भी कई बार अपने आप से निराश और कुंठित हो जाता है और यही कुंठा उसे अपनी प्रवृत्ति से अलग काम करवाने को मजबूर करती है.

हो सकता है आपके किसी दोस्त को पसंद करने वाले सौ लोग होने, लेकिन दुनियां में आपको पसंद करने वाले भी होंगे. आप के व्यक्तित्व, personality के प्रशंसक भी कई होंगे.

Friends, कहते हैं कि शकरखोरे को शकर और मुंजी को टक्कर मिलती है. सकल पदार्थ हैं जग माहीं, दुनिया में तो सभी पदार्थ हैं मगर हम कितना और क्या कुछ achieve कर पाते है ये एक अलग बात है. कोई किसी चीज से ही संतुष्ट हो जाता है और किसी के लिए कई चीजें कुछ मायने नहीं रखतीं.

आप life में क्या achieve करना चाहते हैं. हर इंसान की अलग-अलग personality और क्वालिटी होती है. जरुरी नहीं कि आपके साथियों ने जो achieve किया है वही सब आप भी achieve करें. हो सकता है कि आप उनसे ज्यादा achieve करने के पात्र हों.

हो सकता हैं कि दूसरे लोग जिसे achieve करके खुश हैं वो शायद उतने के ही पात्र हों और आप उससे कहीं ज्यादा के हक़दार हों. हो सकता है कि जो दूसरों ने हासिल किया आपने उसे हासिल करने का कभी सोचा भी ना हो. हो सकता है कि आप ने छोटी सी सफलताओं के बजाए किसी महान लक्ष्य पर ध्यान केन्द्रित किया हो.

Friends, एक बार एक इंटरव्यू में सभी प्रतिभागियों से पूछा गया कि आपको कितनी सैलरी चाहिए. सभी ने अपनी अपनी डिमांड रखी, मगर एक प्रतिभागी ने कहा जो आप उचित समझें. और उस प्रतिभागी को उन सब से ज्यादा सैलरी मिली जबकि बाकी के लोगों को उनकी डिमांड के अन्दर ही सैलरी मिली.

अपनी प्रतिभा और अपनी योग्यता पर विश्वास करना success पाने के लिए बहुत जरुरी होता है. कई बार कुछ लोग हम से आगे निकल जाते हैं तो कुंठित होने के बजाए सही समय की प्रतीक्षा करना भी जरुरी होता है. और कहा भी तो है कि समय से पहले और नसीब से ज्यादा किसी को नहीं मिलता. अपने नसीब के प्रति सकारात्मक सोच रखने वाले निराशा से दूर रहते हैं.

कल क्या होगा कभी ना सोचो,
क्या पता कल खुद अपनी तकदीर बदल ले.

कहते हैं कि आप जो चाहते हैं कर सकते हैं, आप की ख्वाहिशें जरुर पूरी हो सकती हैं. मगर हमारा खुद अपने आप पर विश्वास होना भी तो जरुरी है. कहते हैं "You can deserve, what you want." अगर आप ज्यादा चाहेंगे तो यक़ीनन आपको ज्यादा ही मिलेगा. अपनी शक्तियों पर विश्वास करने वाले हमेशा फायदे में रहते हैं.

स्वंय पर विश्वास करने वाले निराशा, कुंठाओं और आत्मग्लानि जैसे दुर्गुणों से दूर रहते हैं.

अपनी शक्तियों पर विश्वास करने वाले सही समय आने पर अपना लक्ष्य आसानी से प्राप्त कर लेते हैं.
-----------------------------------
यह हिंदी आर्टिकल आपको कैसा लगा अपने सुझाव और विचार अपने कमेंट्स के माध्यम से हम तक जरुर पहुंचायें. साथ ही अगर यह Hindi motivational article/story आपको पसंद आये तो इसे अपने चाहने वालों और अपने Facebook friends तक जरुर पहुंचायें.
अनिल साहू
----------------------------------------

OTHER POSTS IN HINDI
  1. मुसीबतों से डरिये नहीं; जूझिये
  2. सादगी ऐसी भी ना हो
  3. हार भी कभी जीत बन जाती है

नई पोस्ट ई-मेल में प्राप्त करने के लिए ई-मेल द्वारा सदस्य बनें,

Subscribe to HINDI BLOG by Email

लेबल: , , , ,