आप क्या बनना चाहते हैं: मिस्टर हैप्पी या मिस्टर सैड?

      हम में से लगभग हर कोई यही चाहता है कि उसे ज्यादा से ज्यादा लोग पसंद करें. ज्यादा से ज्यादा लोग उसकी तारीफ करें, ज्यादा से ज्यादा लोग उसे like करें आदि आदि. हमारी सोच कहीं से भी गलत नहीं है. जब ज्यादा लोग हमें पसंद करते हैं तो जाहिर सी बात है कि हमें respect भी ज्यादा मिलेगा, हमारे काम भी आसानी से बनेंगे और हमें ज्यादा खुशियाँ मिलेंगी.

http://anilsahu.blogspot.in/2015/04/mister-happy-and-mister-sad-personality-development-article-in-hindi.html
       चलिए इसे हम आज कल के जाने पहचाने उदाहरणों से समझते हैं. Friends, आप में से ज्यादातर लोग सोशल नेटवर्किंग साइट्स जैसे फेसबुक आदि तो चलाते होंगे. क्या आपने कभी गौर किया कि किस प्रकार की posts को आमतौर पर ज्यादा likes और comments मिलते हैं? यदि नहीं तो अब आप गौर करके देखें और इस पोस्ट के मंतव्य को समझने की कोशिश करें.

        हममें से अधिकांश लोग या तो हमारे ही जैसे personality और विचारों वाले व्यक्तियों को पसंद करते हैं जिनसे हमारे विचार मेल खाते हों या फिर हम अपने से ज्यादा success और प्रतिष्ठित मने जाने वाले लोगों को like करते हैं या फिर हम बुद्धिमान और चतुर लोगों को पसंद करते हैं. कुछ लोग अपने से भिन्न personality वाले persons को पसंद करते हैं और उनके साथ रहना पसंद करते हैं ताकि वो उनके व्यक्तित्व से कुछ सीख सकें.

     ये तो बात हुई कि हम किस प्रकार के और कैसे कैसे व्यक्तियों को पसंद करते हैं और किनके साथ रहना ज्यादा पसंद करते हैं  अब आते हैं मुद्दे की बात पर कि हम ने तो अपनी पसंद के व्यक्तियों को चुन लिया मगर हम अपना खुद का मूल्यांकन कैसे करें कि लोग हमारा मूल्यांकन कैसे और किस प्रकार के व्यक्तियों में करते  हैं. हम हमारे व्यक्तित्व (Personality) को किस तरह से विकसित (develop) करें कि हमारी गिनती खुशमिजाज़ व्यक्तियों में होने लगे?

      बहुत से लोग अक्सर परेशान और चिंतित रहने वाले लोगों से किनारा करने लगते हैं. अक्सर दूसरों की शिकायत करने वाले लोगों से भी कुछ व्यक्ति दूर दूर रहने लगते हैं और ऐसे व्यक्तियों की समाज में एक विशेष प्रकार की negative image बन जाती है. इस प्रकार के व्यक्तियों को "Mister Sad" की संज्ञा दी जाने लगती है.
       इसके विपरीत कुछ व्यक्ति ऐसे भी होते हैं जिन्हें हर कोई अपने पास बिठाना चाहता है. हर कोई उन्हें पसंद करता है कि फलां आदमी बहुत अच्छा है. इन्हें हम "Mister Happy" भी कह सकते हैं. 

आखिर क्या कारण है कि कोई इतना पसंद किया जाता है और कोई इतना नापसंद?

इस सवाल का कुछ कुछ जवाब शायद आपको पहले की गयी चर्चा में मिल गया होगा. दूसरे लोग हमारी बहुत सी बातों से हमारा मूल्यांकन करते हैं. इनमें हमारी उपयोगिता, बुद्धिमत्ता, विनोदप्रियता, हमारी बातचीत का ढंग, हमारी personality और हमारा रहन-सहन भी शामिल हो सकता है.

       सरल शब्दों में कहें तो हम कह सकते हैं कि हमारी अच्छी बातें, अच्छे गुण और smart personality दूसरे व्यक्तियों को आकर्षित करती है. और अलग-अलग प्रकार के व्यक्तियों के लिए ये मापदंड अलग-अलग हो सकते हैं.

कभी कभी हमें खुद का मूल्यांकन दूसरों के नजरिये से भी करके देखना चाहिए कि  दूसरे व्यक्ति क्या चाहते हैं.  खुशमिजाज़ और मिलनसार व्यक्तियों को अक्सर सभी लोग पसंद करते हैं. हममें वो गुण हैं कि नहीं अगर हम इस पर विचार करें तो शायद हमें अपने आपको समाज society और friend circle में खुद को अच्छी तरह से स्थापित करने में help मिल सकती है.

हम खुद को आईने में देखें कि आखिर हम क्या हैं मिस्टर हैप्पी या मिस्टर सैड.
----------------------------------------------
निवेदन: Dear readers यदि यह Hindi Article आपको पसंद आया हो तो please अपने विचार और सुझाव comments के through हम तक जरूर पहुंचायें. साथ ही इस article को अपने चाहने वालों और अपने फेसबुक फ्रेंड्स के बीच जरुर शेयर करें.
धन्यवाद.
----------------------------------------------

The ideas and views in this Hindi motivational article on personal development are my own. Please share your valuable ideas about this post.
Thank you very much.

आपकी जिंदगी आपके लिए बहुत ही कीमती है और इसे हर हाल में success और happiness से भरपूर रखना आपकी moral duty है. आखिर में आपके लिए Hindi Shayary की कुछ बहुत ही खूबसूरत lines पेश हैं:

"Zindgi me achchhe logo ki 
Talash mat karo,
Khud ko achchha bana lo
Shayad aapse milkar kisi aur ki 
Talaash poori ho jaye."


Wish You a very very Happy Life. Wish you a life full of happiness and success.

लेबल: , , ,