ब्लागिंग में कैरियर बनाते आज के युवा

आज के दौर में जब भारत ही नहीं बल्कि सारी दुनिया में जॉब के तौर तरीके बदल रहे हैं ऐसे में कुछ नए-नए कैरियर के विकल्प और नाम सामने आ रहे हैं जिनमे रूचि रखने वाले युवा निश्चित ही आज भी अच्छा खासा कमा रहे हैं और वो दूसरों के लिए भी प्रेरणा के स्त्रोत बन रहे हैं. आज ऐसे ही एक नए कैरियर 'ब्लागिंग' के बारे में चर्चा कर रहे हैं. ब्लॉगिंग को अगर हम सरल भाषा में कहें तो इसको हम ब्लॉग या वेबसाइट चलाना, ब्लॉग बनाना और इससे सम्बंधित कामों से जुडी गतिविधियां कह सकते हैं. ब्लागिंग में ऐसे अनेक नाम हैं जो आज इसके द्वारा अपनी आजीविका चला रहे हैं और इसे पूर्णकालिक व्यवसाय के रूप में कर रहे हैं.

http://anilsahu.blogspot.in/2015/09/blogging-me-carrier-banate-bharat-ke.htmlमैं जिन ब्लागरों को ज्यादा जानता हूँ उनमें से अधिकांश युवा विद्यार्थी हैं जो अपनी पढाई के साथ साथ इस काम को कर रहे हैं और वो आज एक अच्छे खासे मुकाम पर कहे जा सकते हैं कमाई की द्रष्टि से. भारत में ब्लागिंग को हम दो श्रेणियों में बाँट सकते हैं; एक अंग्रेजी भाषा में और दूसरी अपनी क्षेत्रीय भाषा में ब्लागिंग. जाहिर सी बात है अंग्रेजी में ब्लागिंग का स्कोप शुरुआत से ही ज्यादा है. मगर पिछले कुछ दिनों से हिंदी ब्लागिंग का स्कोप भो बढ़ रहा है.

भारत में ब्लागिंग को हम अन्य श्रेणियों में भी बाँट सकते हैं; एक प्रोफेशनल ब्लागिंग और दूसरी शौकिया ब्लागिंग. कुछ लोग शुरुआत में शौक के लिए ब्लागिंग करते हैं और बाद में जब उन्हें इसमें लाभ की संभावनाएं दिखती हैं तो वो इसे प्रोफेशनली करने लगते हैं. आज गूगल एडसेंस और दूसरी विज्ञापन एजेंसियां हैं जो इन पर दिखाए जाने वाले विज्ञापनों पर मिलने वाले क्लिक के बदले में ब्लागरों को रुपये देती हैं जो इनके लिए कमाई का स्त्रोत होते हैं. इसके अलावा खुद की सेवा या प्रोडक्ट का विज्ञापन करके भी ब्लागर कमाई कर रहे हैं.

कहते हैं अपनी प्रतिभा को व्यर्थ नहीं जाने देना चाहिए. आज के दौर में जिन युवाओं में रचनात्मक प्रतिभा है या और किसी विशेष क्षेत्र में ज्ञान है वो अपने ज्ञान का उपयोग ब्लॉग के माध्यम से दूसरों तक पहुंचा रहे हैं.

ब्लॉग या वेबसाइट बनाना, उस पर नियमित रूप से पोस्ट डालना और उसे सम्बंधित पाठक वर्ग के बीच तक प्रचारित करना ये ऐसे जरुरी काम हैं जो एक ब्लागर के लिए आवश्यक होते हैं. एक बार जब आपकी वेबसाइट या ब्लॉग सही तरीके से success हो जाए तो फिर उसके पढ़ने वाले बढते रहते हैं.

क्या ब्लागिंग के लिए भाषा की कोई समस्या है?
ये एक सही प्रश्न है. बहुत सारे ब्लागर जिन्हें अंग्रेजी आती है वो भी अपनी इच्छानुसार अंग्रेजी या फिर अपनी भाषा में ब्लाग लिखते हैं. मैंने कुछ ऐसे ब्लागर भी देखे हैं जो हिंदी देवनागरी में न लिखकर हिंदी रोमन में लिखते हैं और उनके ब्लॉग के ढेर सारे पाठक हैं और उनका ब्लॉग अच्छा चल रहा है. कहने का मतलब भाषा तो अभिव्यक्ति का माध्यम है. सामने वाले तक आपके विचार और जानकारी पहुँच जाना चाहिए. और जब सामने वाला आपको पढ़ना चाहता है तो फिर वो तो पढ़ेगा. मुख्य बात content की होती है.
Bahut se blogger English ke bajaye Hindi Roman me blog likhna pasand karte he. Blogging ko ek carrier ya kamai ka jaria kese banaya jaye is bare me bahut si websites aur blog par diya gay hai. Bharat me bahut se yuva blogger aaj blog ko full time carrier ki tarah kar rahe hain aur unhe achchhi kamai bhi ho rahi hai. Agar aapme likhne ka achchha hunar hai aur aap bloggin ko samay de sakte he to aap is se bahut kuchh pa sakte he. Blog se kamai karna ek achchha ide he parantu aap ko ise samay dena hoga aur aap me wo telent hona chahiye jo ek achche blogger ke liye jaruri hota hai. Kaha jaye to ek professional tarike se aapko blog ke liye samay dena hoga.

ब्लागिंग के बारे में कई लोग कई भ्रांतियों से भी ग्रसित रहते हैं कि ये तो सिर्फ ज्यादा तकनीकी ज्ञान रखने वाले लोग ही कर सकते हैं या फिर कुछ लोग ऐसा भी सोचते हैं कि ब्लॉग तो एक जादू का पिटारा है एक बार ब्लॉग बनाया तो अपने आप कमाई होने लगेगी. जबकि ऐसा नहीं है. हर आदमी के लिए हर चीज आसान नहीं होती और न ही पैसा कमाना इतना आसान है. सही तरीके और माँध्यम का चुनाव, अच्छी डिजाइन और अच्छा content, उचित मार्गदर्शन, पर्याप्त मेहनत, अच्छा SEO और फिर अच्छा knowledge भी जरुरी है.
-------------

निवेदन: अगर आपको यह हिंदी आलेख पसंद आया हो तो कृपया अपनी सोच और सुझाव कमेन्ट के माध्यम तक हम तक जरुर पहुचाएं और इसे अपने दोस्तों और अपने चाहने वालों तक share करें.
धन्यवाद.
-------- 

लेबल: ,